Bihar Bhakti Andolan

Bihar Bhakti Andolan
Bihar Bhakti Andolan with the victims of Koshi Disaster in 2008

बिहार-भक्ति क्या है ?

इस वीडिओ को अवश्य देखने का कष्ट करें.आप इसे बार बार देखेगें और अपने मित्रों को भी शेयर करेगें !

Dear Friends, Watch this video, created by Bihar Bhakti Andolan, you will watch it repeatedly then and will be inspired to Share it to All Your Friends : Bihar Bhakti Andolan.

Monday, February 8, 2010

तुम रखा करते हो अक्सर जिनके सर, सोने का ताज---


 राष्ट्र , व्यक्ति से सदा श्रेष्ठ है 
---------------------------------------
पिछले दो तीन दिनों में , इस महान देश के करोड़ों नागरिकों ने करोड़ों घंटे इस व्यर्थ की बात को सोचने और निर्णय करने के प्रयास में खर्च कर दिए कि आई पी एल  के सम्बन्ध में हुए , शाहरुख खान और बाला साहब  ठाकरे के विवाद में कौन सही है...मुंबई में धुरंधर माने जाने वालों में इस तरह के  मैच पहले भी होते रहें हैं ..और अक्सर यह देखा गया है कि ये मैच पहले से फिक्स्ड  होते हैं . जब किसी विषय , मुद्दे या व्यक्ति को चर्चित बनाना होता है तो धुरंधरों  को कुछ कहने के लिए कहा जाता है .. वे कहते हैं और वह विषय , व्यक्ति या मुद्दा राष्ट्रीय महत्व का मान लिया जाता है ..और इस देश का टी वी सैकड़ों घंटों तक देश के लोगों को इस प्रकार के व्यर्थ के विवाद में व्यस्त रखने में सफल होता है ..
                      शाहरुख खान  ने कभी यह सोचा या इस पर कुछ कहा कि  जो लोग उनकी फिल्मे देखकर,  उन जैसे औसत कद , काठी और विचार वाले व्यक्ति को,  खुद को '' किंग खान '' कहने की गर्वोक्ति का  अवसर देते है  उनकी आर्थिक दशा क्या है ?  उनके जीवन का स्तर क्या है ? इस देश  में सक्रिय हर्षद मेहताओं, अब्दुल करीम तेलगियों, श्याम बिहारी सिन्हाओं के द्वारा  उनके साथ साथ कितना घोर आर्थिक अपराध किया जा रहा था और आज भी किया जा रहा है और यदि यही स्थिति बनी रही तो भविष्य  में भी किया जाएगा ?
                       मुंबई में आई पी एल  को चर्चित करने के लक्ष्य से फिक्स्ड मैच खेलने वालों ने अपना काम कर दिया है , आई पी एल इस समय पहले से अधिक चर्चित हो चुका है ..मगर इस देश की वास्तविक चिंता करने वालो को अपना काम करना अभी भी बाकी है ..
             अब इस देश के युवा यह  नहीं सोचेंगे कि महाशक्ति बन रहे हमारे पड़ोसी द्वारा भारत के किस किस भूभाग को अपने नक़्शे में दिखाया जा रहा  है .. हमारे पड़ोसी  ने हमारे प्रधान को अपने ही अरुणाचल प्रदेश में जाने पर आपत्ति व्यक्त करने का साहस क्यों दिखाया था .. हमारे  देश के  घर घर में पड़ोस में बनी वस्तुएं क्यों खरीदी जा रही है .. अब वे यह नही सोचेगें कि हमें आने वाले वर्षों में विश्व-मंच पर जो ज़िम्मेदारी निभानी है उसके लिए देश से भ्रष्टाचार का सर्वनाश करते हुए देशभक्ति के आक्सीजन की  श्वास  लेनी सीखनी होगी .. अब हमारे युवा न तो इस मुद्दे पर बहस करेगे और न उसके लिए कुछ करने के लिए प्रेरित ही होगें ..
क्योंकि :  


तुम रखा करते हो अक्सर जिनके सर, सोने का ताज .
कह रहा है  मुल्क   उनका  सर  कुचलना  चाहिए ..

-- अरविंद पाण्डेय

7 comments:

sadhana said...

JI HA BILKUL SAHI KAHA AAPNE ...YE SAB MILI BHAGT PREPLANNED SUBJECT HOTA HAI..OUR AAM JANTA USI ME ULJH KAR RAH JATA HAI..AAPKA BAHUT-BAHUT DHANYVAD...JO AAPNE LOGO KA DHAYAN DESH KI ASLI SAMSYA KI OR DILAYE HAI...

Er. AMOD KUMAR said...

आज मेरे लिए बड़े ही गौरव की बात है कि चाणक्य जो मेरे आदर्श है उनकी चर्चा हुई है ,
चाणक्य ने कहा था कि " राजनीति अगर राष्ट के हित में है तो राजनीति कहलाती है , अगर किसी व्यक्ति विशेष के हित है तो भ्रष्टाचार कहलाता है "
परम आदरणीय सर
The Match have been all ready fixed , they are making fun of all Indians.
अब बात करे मुंबई कि जो भारत का दिल है , उसको गंदे लोग पूरा तरह से गन्दा करने में एकजुट हो गए है , जिस दिन चीन हमला किया उस दिन इन लोगो को पता चलेगा , कितनी गलती ये लोग कर रहे थे , अभी इनको कोई काम तो है नहीं , दिन भर अपने आप को चर्चा में रखने के लिए फालतू बातें बोलते रहते है |
अब जरूरत है इन पर कठोर से कठोर कार्यवाई करने की | सरकार को ठोश कदम उठाने होंगे |
जय हिंद , जय भारत

वाणी गीत said...

गैरजरूरी मुद्दों पर इतनी बहस का मुख्य कारण लोकतंत्र का प्रमुख औजार मीडिया भी है ....
और राजनीति का तो मुख्य मकसद शासन , भ्रष्टाचार , गरीबी आदि मुद्दों से ध्यान हटाना ही है ....
प्रभावशाली चिंतन ...आभार ....!!

priyesh said...

Sir,Bilkul sahi baat hai.hum logon ne desh or uske hiton k bare me sochna band kar diya hai.aapne sabka dhayan is samasya k uper laaya,aapka hardik dhanyawad...hume aaj waise neta nahi chahiye jo humara marg band karte ho,hume to aisi leadership chahiye jo hume wishwa me no.1 banaye...aap humare liye aanukarniye ho....nai pidhi ko raah dikhane k liye dhanyawad....:

Hiamanshu said...

SIR BILKUL SAHI KAHA HAI AAPNE.
KHUD KO CHARCHA ME BANAYE RAKHNE
KE LIYE YE YESI GHATIYA KHEL,KHEL
RAHE HAI JISKA ASAR DESH PAR BAHUT
HI BURA PADEGA.MAI IN SAB KE LIYE
IN GANDE LOGO KO TO JIMMEWAR MANTA
HI HUN,LEKIN KHUCH HAD TAK ISME MIDIYA
OR T.V CHANNEL WALO KI V BHUMIKA HAI.AAJ JAHA LOGO TAK SACH PAHUCHANI CHAHIYE,GUNAHGARO KO BENAKAB KARNA CHAHIYE USKE JAGAH YE UNKO MIRCH MASALA BANAKAR,JHUTH KI GHI DALKAR USKI AGNI ME KARORO JANTA KO JALATE RAHTE HAI.

JAGO INDIA JAGO.

JAI HIND.

Subham Verma said...

badhiya....:-)

Anonymous said...

So true